दीपावली पर्व के पाँच दिन।।

Dipavali ke panch din
Dipavali ke panch din

दीपावली पर्व के पाँच दिन।। Dipavali ke panch din.

मित्रों, गुजरात में दिपावली की शुरुआत वाघ बारस से ही मानी जाती है। पांच दिन के दीपावली पर्व की शुरुआत इस वर्ष नवम्बर मास के दुसरे सप्ताह में हो चुकी है। मूलतः इसका प्रारंभ धनतेरस के दिन से होता है और अंत भैया दूज को होता है।।

मित्रों, नवम्बर का द्वितीय सप्ताह व्रत एवं त्योहारों से भरा हुआ है। इस सप्ताह में ही पांच दिन के दीपावली पर्व का आगाज होना है। जिसका प्रारंभ धनतेरस के दिन से होता है और अंत भैया दूज को होता है।।

इस सप्ताह धनतेरस, प्रदोष व्रत, यम दीपम, काली चौदस, मास शिवरात्रि, दीपावली, नरक चतुर्दशी, लक्ष्मी पूजा, कमला जयंती, अन्नकूट या गोवर्धन पूजा और कार्तिक अमावस्या सभी आने वाले हैं। आइए जानते हैं कि ये सभी व्रत और त्योहार किस तारीख को आने वाले हैं।।

11 नवम्बर: रमा एकादशी: कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को रमा एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस दिन व्रत रखने वाले लोग भगवान श्रीकृष्ण की विधिपूर्वक पूजा करते हैं। इस व्रत से सभी पाप नष्ट हो जाते हैं।।

13 नवम्बर: धनतेरस: धनतेरस को धन त्रयोदशी भी कहा जाता है। कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को धनतेरस होता है। इस दिन भगवान धनवन्तरि की पूजा करते हैं और सोना, चांदी या धातु का कोई सामान खरीदने की परंपरा है।।

13 नवम्बर: यम दीप: परिवार में कोई भी सदस्य की असमय मृत्यु न हो, इससे बचने के लिए शाम के समय घर से बाहर एक दीपक यमराज के लिए जलाते हैं, जिसे यम दीपम कहा जाता है।।

13 नवम्बर: प्रदोष व्रत: हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, हर मास की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत होता है। इस बार शुक्रवार को पड़ने के कारण यह शुक्र प्रदोष व्रत है। इस दिन देवों के देव महादेव की आराधना की जाती है।।

13 नवम्बर: रूप चौदस और काली चौदस: कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को रूप चौदस होता है। सूर्योदय से पूर्व उबटन, स्नान एवं पूजा का करते हैं, जिससे रूप और स्वर्ग की प्राप्ति होती है। बंगाल में इस दिन काली मां का जन्मदिन मनाते हैं, इसलिए इसे काली चौदस भी कहते हैं।।

14 नवम्बर: दीपावली, लक्ष्मी पूजा, कमला जयंती, कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को दीपावली का त्योहार मनाया जाता है। इस दिन माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है।।

मां आदिशक्‍ति के उग्र और सौम्‍य कुल 10 अवतारों में से मां कमला दसवां अवतार हैं। अमावस्या के दिन ही मां कमला की पूजा होती है। इनकी पूजा से विद्या और कौशल में विकास, धन और ऐश्‍वर्य में वृद्धि होती है।।

15 नवम्बर: अन्नकूट या गोवर्धन पूजा: कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को अन्नकूट या गोवर्धन पूजा मनाया जाता है। यह दिवाली के अगले दिन मनाया जाता है।।

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे  YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click Here & Watch My YouTube Channel.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: [email protected]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here