दीपावली कब है जानें पूजा का शुभ मुहूर्त।।

0
1485
Diwali 2019 Date time Subh Muhurat
Diwali 2019 Date time Subh Muhurat

दीपावली कब है जानें पूजा का शुभ मुहूर्त।। Diwali 2020 Date time Subh Muhurat:

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, इस वर्ष दीपों का पर्व दीपावली (Deepawali) दिनांक 14 नवंबर 2020 दिन शनिवार को है। दीपावली का पूजन प्रदोष काल और स्थिर लग्न में करना सर्वोत्तम होता है। वृषभ, सिंह, वृश्चिक तथा कुम्भ लग्न को स्थिर लग्न माना गया है। इस दिन स्वाति नक्षत्र सूर्योदय काल से लेकर 20.10 PM तक रहेगा तत्पश्चात विशाखा लग जायेगा।।

प्रदोष काल का समय गृहस्थ एवं व्यापारियों के लिए सर्वाधिक उपयुक्त माना जाता है। प्रदोष काल अर्थात दिन और रात्रि का संयोग काल। दिन भगवान विष्णु का प्रतीक है और रात्रि माता लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है। धर्म सिंधु के अनुसार प्रदोष काल अमावस्या निहित दीपावली पूजन को सबसे शुभ मुहूर्त माना जाता है।।

Diwali 2019 Date time Subh Muhurat

दिपावली पूजन का शुभ मुहूर्त “अमृत योग”।।

दिपावली के दिन “शुभ” योग सुबह 08:12 AM से लेकर 09:36 AM तक रहेगा। इस समय व्यापार एवं धन वृद्धि के लिए किया गया पूजन सफल होगा। अगर आप धनतेरस के दिन वाहन और दूसरी पसंदीदा चीजों की खरीदारी नहीं कर पाते हैं तो इस समय के दौरान भी खरीदारी करना शुभ रहेगा।।

दिपावली 2020 पूजन का शुभ मुहूर्त।। Muhurat of Laxmi Puja and Vidhi:

प्रदोष काल का समय:- सायं 18.14 से 20.42 तक। इस मुहूर्त में एक सबसे अच्छी बात यह है, कि इसमें स्थिर लग्न वृषभ भी मिल जा रहा है। वृष लग्न 18:00 से 20:00 तक है और प्रदोष भी है, इन दोनों के मिल जाने से ये दीपावली पूजन का सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त बन जाता है।।

वृष लग्न:- दीपावली पूजन वृषभ लग्न जो की स्थिर लग्न भी माना जाता है, में करना श्रेयस्कर माना जाता है। व्ययसाय से जुड़े लोगों को अपने प्रतिष्ठान में इसी समय में पूजन करवाना चाहिये। वृषभ लग्न 18:00 से 20:00 तक रहेगा। निशीथ काल:- 20.08 से 22.48 तक रहेगा। यह मुहूर्त व्यापारियों के लिए बहुत अच्‍छा होता है। इसमें 19.09 से 20.52 तक पूजन का विशेष शुभ मुहूर्त है ।।

महानिशीथ काल:- 23:39 मिनट से 24:32 तक। सिंह लग्न 00:33 से 02:43 तक है। गृहस्थ प्रदोष काल में पूजन करें। व्यापारी प्रदोष और वृष लग्न में दीपावली पूजन करें तो सर्वोत्तम होता है। छात्र प्रदोष काल में पूजन करें। आई टी, मीडिया, फ़िल्म, टी वी इंडस्ट्री, मैनेजमेंट और जॉब करने वाले शुक्र प्रधान जातक वृषभ लग्न में पूजन करें।।

सरकारी सेवा के लोग अधिकारी और न्यायिक सेवा के लोग भी वृष लग्न में ही पूजन करें। तांत्रिक महानिशीथ काल में पूजन करें। चौघड़िया मुहूर्त में भी किसी विशेष लाभ हेतु पूजा कर सकते हैं। 16:34 से 17:58 बजे शाम तक शुभ, 17:58 से 19:34 बज्र शाम तक अमृत, 19:34 बजे से 21:10 बजे रात्रि तक चल, 00.23 से 01.59 तक लाभ, 03:36 से 05:52 तक शुभ, 05:52 से 06:48 बजे तक अमृत चौघड़िया रहेगी। राजनीति में सफलता प्राप्ति हेतु अमावस्या की रात्रि के महानिशीथ काल में विधि-विधान पूर्वक तांत्रिक पूजन करवायें या करें।।

“कुम्भ राशि की कुण्डली में चन्द्रमा की महादशा में सभी ग्रहों की अन्तर्दशा का फल, भाग-7.।।” – My Latest video.

मीन राशि की कुण्डली में सूर्य महादशा फल. भाग-7.।।” – My Latest video.

मेष राशि की कुण्डली मंगल के साथ बाकि ग्रहों की युति का फल, भाग-8.।।” – My Latest video.

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Watch YouTube Video’s.

ज्योतिष से सम्बन्धित अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख तथा टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं।।

सिलवासा ऑफिस:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

सिलवासा ऑफिस में प्रतिदिन मिलने का समय:-
10:30 AM to 01:30 PM And 05:30 PM to 08:30 PM.

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: balajijyotish11@gmail.com 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here