पितरों के तर्पण में अंगूठे की भूमिका।।

Pitaro Ka Tarpan Vidhi
Pitaro Ka Tarpan Vidhi

पितरों के तर्पण में अंगूठे की भूमिका।। Pitaro Ka Tarpan Anguthe Se Kyon.

मित्रों, क्या आप जानते हैं, कि पितरों का तर्पण करते समय अंगूठे का प्रयोग क्यों किया जाता है? अंगूठे के माध्यम से ही जलांजलि का जल जमीन पर क्यों छोड़ा जाता है? इस विषय को स्पष्टता से आज हम आपलोगों को बताते हैं।।

वैदिक सनातन धर्म में श्राद्ध पक्ष को बहुत ही पवित्र समय माना जाता है। पितृपक्ष 20 सितंबर 2021 से प्रारंभ हो रहा है। श्राद्ध पक्ष से कई परंपराएं भी जुड़ी रही हैं। लेकिन इन परंपराओं के पीछे का कारण बहुत कम लोग जानते हैं।।

आज हम आपको श्राद्ध से जुड़ी एक ऐसी ही परंपरा के बारे में बता रहे हैं। जो हम बचपन से देखते आ रहे हैं। लेकिन उसके पीछे के कारण से अनजान हैं। वो परंपरा है तर्पण करते समय अंगूठे के माध्यम से जल जमीन पर छोड़ना।।

इसलिए तर्पण करते समय अंगूठे से ही जल भूमि पर छोड़ा जाता हैं। श्राद्ध कर्म करते समय पितरों का तर्पण करने का विधान है। अर्थात पिंडों पर अंगूठे के माध्यम से जलांजलि दी जाती है। ऐसी मान्यता है, कि अंगूठे से पितरों को जल देने से उनकी आत्मा को शांति मिलती है।।

इसके पीछे के ज्योतिषीय कारण कि बात करें तो हस्तरेखा से जुड़ा है। हस्तरेखा के अनुसार, पंजे के जिस हिस्से पर अंगूठा होता है, वह हिस्सा पितृ तीर्थ कहलाता है। इसीलिए अंगूठे से जल चढ़ाया जाता है। जल पितृ तीर्थ से होता हुआ पिंडों तक जाता है।।

ऐसी मान्यता है, कि पितृ तीर्थ से होता हुआ जल जब अंगूठे के माध्यम से पिंडों तक पहुंचता है तो पितरों को पूर्ण तृप्ति का अनुभव होता है। यही कारण है, कि हमारे विद्वान पूर्वजों ने पितरों का तर्पण करते समय अंगूठे के माध्यम से जल देने की परंपरा बनाई है।।

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे  YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click Here & Watch My YouTube Channel.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

सिलवासा ऑफिस:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के ठीक सामने, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

प्रतिदिन सिलवासा में मिलने का समय:

10:30 AM to 01:30 PM And 05: PM 08:30 PM

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: [email protected]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here