हाथ में सूर्य रेखा एवं यश और प्रतिष्ठा।।

0
1943
Surya Rekha Aur Name And Fame
Surya Rekha Aur Name And Fame

हस्तरेखा में सूर्य रेखा का महत्व और आपकी यश एवं प्रतिष्ठा ।। Hastrekha me Surya Rekha Aur Name And Fame.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, हमारे हिन्दू धर्म के ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कई बार कई लोग बड़ी-बड़ी खोजें और बेहद दुर्लभ कार्य कर जाते हैं । लेकिन कोई उनकी तारीफ नहीं करता, कोई उन्हें नहीं पूछता ।।

ऐसे व्यक्तियों के जीवन में इस प्रकार कि घटना यश रेखा अथवा सूर्य रेखा की वजह से होती है । सूर्य रेखा अनामिक ऊंगली यानि रिंग फिंगर के निचले क्षेत्र में होती है जो सूर्य पर्वत से शुरु होकर ऊपर की तरफ जाती है ।।

सूर्य पर्वत से लेकर मणिबंध तक जाने वाली सूर्य रेखा को असाधारण माना जाता है । ऐसी रेखा कलाकारों, नेताओं या बड़े सितारों के हाथों में आसानी से देखी जा सकती है । कई लोगों के हाथों में यह रेखा होती ही नहीं है ।।

आइये आज हम जानते हैं, इस सूर्य रेखा के विषय में कुछ विशेष बातें । टूटी हुई सूर्य रेखा या हथेली पर सूर्य रेखा का ना होना अशुभ माना जाता है ।।

हालांकि यह आम बात होती है, क्यूंकि जरूरी नहीं कि हर इंसान यश और बड़ी प्रतिष्ठा प्राप्त ही करें । कई बार तो बड़े-बड़े वैज्ञानिकों के हाथ में भी यह रेखा नहीं होती है ।।

जिन जातकों के हाथों में सूर्य रेखा ना हो उन्हें सूर्य देव का उपवास और सूर्य देवता को जल चढ़ाना चाहिए । इसके अलावा शिवलिंग पर जल चढ़ाने और पीली वस्तुओं का दान देने से भी लाभ होता है ।।

हस्तरेखा में यह सूर्य रेखा अगर विवाह रेखा की किसी शाखा कि तरफ या अंगुठे की तरफ जाए तो यह विवाह के बाद भाग्योदय के संकेत देता है ।।

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे  YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click Here & Watch My YouTube Channel.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

वापी ऑफिस:- शॉप नं.- 101/B, गोविन्दा कोम्प्लेक्स, सिलवासा-वापी मेन रोड़, चार रास्ता, वापी।।

वापी में सोमवार से शुक्रवार मिलने का समय: 10:30 AM 03:30 PM

शनिवार एवं रविवार बंद है.

सिलवासा ऑफिस:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

प्रतिदिन सिलवासा में मिलने का समय: 05: PM 08:30 PM

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: balajijyotish11@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here