व्यापार एवं धन प्राप्ति के कुछ टिप्स।।

0
4158
tips for Bussiness
tips for Bussiness

व्यापार एवं धन प्राप्ति के कुछ अत्यंत प्रभावी टिप्स।। Some Effective tips for Bussiness.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, यदि आपको अपने व्यापार में, नौकरी में अथवा आपके किसी भी कार्य क्षेत्र में जो आप करते हों अगर लगातार आपको धन हानि होने लगे। इस वजह से आपको बहुत से मुश्किलों का सामना करना पड़े तथा आपके प्रियजन भी आपसे रुष्ट होने लगें…..

तो ऐसी स्थिति में आप अपने कार्यस्थल या अपने रहने वाले घर में झाड़ू को किसी ऐसे स्थान पर रखें जहाँ पर किसी भी बाहर वाले की सीधी निगाह उस पर न पड़े। बहुत ही जल्दी आपकी सारी मुश्किलें कम होने लगेगीं।।

मित्रों, ऐसा तब भी होता है जब आपका चन्द्रमा कुण्डली में राहू, केतु अथवा शनि से ग्रसित हो। चन्द्रमा के लिए कुछ ऐसे उपाय जो सोमवार को करने से अत्यन्त लाभ होता ही है, आज आपलोगों को बताता हूँ।।

ऐसी स्थिति में जब आपको बहुत से मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा हो अपने घर में दक्षिणावर्ती शंख रखें और उसका नित्य ही नियमित रूप से पूजन करें । ग्यारह सोमवार को दोपहर के भोजन में केवल दही-भात ही खाएं।।

मित्रों, जबतक आपकी मुश्किलें हल न हो जाय तबतक सूर्यास्त के बाद कभी भूलकर भी दूध न पियें और न ही किसी को दें अथवा पिलायें। कोई भी तीन सफ़ेद फूल लेकर हर सोमवार को और पूर्णिमा को बहती नदी या बहती दरिया में बहायें।।

चन्द्रमा को ठीक करने अथवा चन्द्रमा से शुभ फल प्राप्त करने के लिए मोतियों की माला या चन्द्रकान्तमणि को अपने गले में धारण करें। पूर्णिमा की रात को चन्द्र दर्शन करें व चन्द्रमा को चावल एवं दूध मिलाकर चांदी के बर्तन से अर्घ्य दें।।

सोमवार की अमावस्या को ५ सुहागन स्त्रियों को खीर का भोजन कराने एवं उनको दक्षिणा देने से भी चन्द्रमा जातक को शुभ फल प्रदान करता है। सोमवार को भगवान शिव भक्ति-पूजा भी करने से चन्द्रमा शुभ फल जातक को देता है।।

मित्रों, अगर संयोग से सोमवार को यदि एकादशी भी हो तो शिव भक्ति के साथ-साथ भगवान विष्णु की पूजा भी करनी चाहिए। इस प्रकार का दुर्लभ योग जातक को अतुलनीय फल प्रदान करता ही है।।

“शिवस्य जल प्रियं” इस सूत्र के अनुसार भोलेनाथ जल से ही प्रसन्न हो जाते हैं। इसके साथ ही कई प्रकार की छोटी-छोटी पूजन सामग्री से अर्चन करने से भगवान शिव अत्यन्त प्रसन्न हो जाते हैं।।

साथ ही भगवान विष्णु नाम स्मरण से ही सुख बरसाते हैं। इसलिए इस प्रकार के संयोग में किया गया भगवान शिव एवं भगवान विष्णु का पूजन जातक के सोये हुए भाग्य को भी जगा वाला माना गया हैं।।

मित्रों, आपके व्यापार स्थल में अथवा आप जहाँ नौकरी करते है वहां अपने ऑफिस या फिर आप किसी भी कार्य क्षेत्र से जिससे आप सम्बन्ध रखते है वहां जाने पर अथवा लौटने पर उसके द्वार की जमीन को दाहिने हाथ से छूकर अपने माथे पर अवश्य लगायें।।

अपने इष्ट देव का ध्यान करते हुए भूमि का स्पर्श करें इससे आपका भाग्य आप पर प्रसन्न हो जाता है। अपने कार्य क्षेत्र के प्रति अपने ह्रदय में श्रद्धा एवं सम्मान रखने से ईश्वर की कृपा सदैव आप पर बनी रहती है।।

ऐसा करने से आप को सदैव अपने कार्यों में सफलता एवं मान सम्मान की प्राप्ति होगी। ऐसा कभी ना सोंचे की आपके सहयोगी आपके साथी जो अन्य कर्मचारी हैं वो आपके इस व्यवहार के बारे में क्या सोचेंगे अथवा आपका उपहास होगा।।

मित्रों, जिस जगह प्रेम का वातावरण रहता है एवं जहाँ पर कलह नहीं होती है उस घर में धन धान्य की कभी भी कमी नहीं होती है। इसलिए आप अपना आदर्श अवश्य बनायें और जितना हो सके कलह से बचें।।

आप अपने जीवन में किसी को अपना आदर्श अवश्य बनायें । जिसे गुरु अथवा अपना आदर्श बनायें उस व्यक्ति की तस्वीर अपने कक्ष में लगायें। उस व्यक्ति की जीवनी, उसकी सफलता तथा उसकी कमजोरियों का बहुत ही गहराई से अध्धयन करें।।

एक लक्ष्य तय करके अपने को भी उस व्यक्ति की ऊँचाई तक पहुँचने का प्रयत्न करें। प्रतिदिन कुछ समय आँख बंद करके पूरी एकाग्रता से यह ध्यान करें की आप वही व्यक्ति है।।

किसी भी परिस्थिति में यह सोचिये की यदि आपकी जगह वह होते तो क्या करते और उसी तरह से कार्यों को करने का प्रयत्न करें। निश्चय ही आप अपने अन्दर बहुत बड़ा बदलाव महसूस करेंगे।।

मित्रों, आपकी कुण्डली में चन्द्रमा अच्छा न हो तो उसे ठीक करने अथवा उससे शुभ फल प्राप्ति के लिए उस व्यक्ति को प्रति सोमवार एवं जन्म नक्षत्र के दिन पीपल वृक्ष को सफेद पुष्प अर्पण करना चाहिए साथ ही पीपल वृक्ष की 4 परिक्रमा करनी चाहिए।।

पीपल वृक्ष की कुछ सुखी टहनियों को स्नान के जल में कुछ समय तक रख कर फिर उस जल से स्नान करना चाहिए। पीपल का एक पत्ता सोमवार को और एक पत्ता जन्म नक्षत्र वाले दिन को लाकर उसे अपने कार्य स्थल पर रखना चाहिए।।

मित्रों, इस उपाय से जीवन में शीघ्र ही बड़े-से-बड़ी सफलता प्राप्त होती है और धन लाभ के मार्ग प्रशस्त होने लगते है। पीपल वृक्ष के नीचे प्रत्येक सोमवार को कपूर डालकर घी का दीपक लगाना चाहिए।।

मृदंग योग एवं उसके फल – बृहत्पाराशर होराशास्त्रम् के 19वें अध्याय में वर्णित अनेकयोगाध्यायः में ज्योतिष के सभी महत्वपूर्ण योगों का विस्तृत वर्णन किया गया है । जातक के जीवन में इन योगों का क्या असर होता है, इस बात का विस्तृत वर्णन हम कर रहे हैं । तो आइये जानें इस विडियो टुटोरियल में मृदंग योग एवं उसके फल के विषय में –

शारदा योग एवं उसके फल – बृहत्पाराशर होराशास्त्रम् के 19वें अध्याय में वर्णित अनेकयोगाध्यायः में ज्योतिष के सभी महत्वपूर्ण योगों का विस्तृत वर्णन किया गया है । जातक के जीवन में इन योगों का क्या असर होता है, इस बात का विस्तृत वर्णन हम कर रहे हैं । तो आइये जानें इस विडियो टुटोरियल में शारदा योग एवं उसके फल के विषय में –

श्रीनाथ योग एवं उसके फल – बृहत्पाराशर होराशास्त्रम् के 19वें अध्याय में वर्णित अनेकयोगाध्यायः में ज्योतिष के सभी महत्वपूर्ण योगों का विस्तृत वर्णन किया गया है । जातक के जीवन में इन योगों का क्या असर होता है, इस बात का विस्तृत वर्णन हम कर रहे हैं । तो आइये जानें इस विडियो टुटोरियल में श्रीनाथ योग एवं उसके फल के विषय में –

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे  YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click Here & Watch My YouTube Channel.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

सिलवासा ऑफिस:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

प्रतिदिन सिलवासा में मिलने का समय:

10:30 AM to 01:30 PM And 05: PM 08:30 PM

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: balajijyotish11@gmail.com 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here