चन्द्र ग्रहण काल में नियम पालन।।

0
412
Grahan Kaal ke Niyam
Grahan Kaal ke Niyam

चन्द्र ग्रहण का विवरण एवं नियम पालन की आवश्यकता।। Grahan Kaal ke Niyam.

मित्रों, 31 जनवरी 2018 दिन बुधवार को माघ शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा पर खग्रास चन्द्रग्रहण लग रहा है। यह ग्रहण सम्पूर्ण भारत में दिखाई देनेवाला होगा। भारत के अलावा यह सम्पूर्ण एशिया, रूस, मंगोलिया, जापान, आस्ट्रेलिया, आदि में चंद्रोदय के समय प्रारंभ होगा।।

यह ग्रहण उत्तरी अमेरिका, कनाडा, पनामा के कुछ भागों में चन्द्रास्त के समय इस ग्रहण का मोक्ष दृष्टिगोचर होगा। भारतीय मानक समय के अनुसार पूर्वोत्तर भारत के कुछ क्षेत्रों जैसे असम, मेघालय, बंगाल, झारखण्ड, बिहार में खण्डग्रास चन्द्रग्रहण का स्पर्श सायं 5 बज कर 19 मिनट से तथा मोक्ष रात्रि 8 बज कर 43 पर होगा।।

खग्रास चन्द्रग्रहण की कुल अवधि 01 घंटा 17 मिनट तथा चन्द्रग्रहण की कुल अवधि 03 घंटा 24 मिनट की होगी। इस चन्द्रग्रहण का स्पर्श सायं 05 बजकर 19 मिनट पर होगा, ग्रहण का मध्य सायं 07 बजकर 01 मिनट पर तथा ग्रहण का मोक्ष रात्रि 08 बजकर 43 मिनट पर होगा।।

मित्रों, चंद्र ग्रहण के स्पर्श काल से 9 घंटा पहले सूतक लग जाता है। यह सूतक चंद्र ग्रहण में 9 घंटा पहले और सूर्य ग्रहण में 12 घंटे पहले लगता है। सूतक जब लगे उसके पहले भोजन पानी कर लेना चाहिए तथा बचे हुए अन्य भोजन सामग्रियों में अथवा जल एवं दूध-दही-घी आदि में कुशा डाल देनी चाहिए ताकि वह ग्रहण के दोष से अशुद्ध ना हो।।

ग्रहण काल में विशेषकर गर्भवती महिलाओं को विशेष रूप से कुछ नियमों का पालन करना आवश्यक होता है। क्योंकि ग्रहण काल में जितना अधिक पूजा-पाठ जप किया जाए वह सिद्धियां देता है। लेकिन यही ग्रहण जब किसी गर्भवती महिला के ऊपर पड़ता है तो उसके गर्भ में पलने वाला बच्चा विकलांग हो जाता है।।

शास्त्रानुसार ऐसी मान्यता है, कि ग्रहण काल में गर्भवती स्त्रियों को सोना नहीं चाहिए और एक जगह पर ज्यादा देर तक बैठना भी नहीं चाहिए। क्योंकि जिधर बच्चा दबेगा उधर से उसका वह अंग कमजोर हो जाता है।।

ग्रहण काल में शौच आदि पर भी नियंत्रण रखना चाहिए। सूतक के नियमों का पालन करते हुए भोजन में अन्न-जल भी जब तक ग्रहण का मोक्ष ना हो जाए तब तक नहीं ग्रहण करना चाहिए।।

ग्रहण का मोक्ष होने के बाद स्नान करके और कुछ दान करने के बाद ही भोजन-पानी बनाकर फिर उसे भगवान का भोग लगाकर ग्रहण करना चाहिए। इन नियमों का पालन जितना अधिक किया जाए उतना भविष्य के लिए अच्छा होता है।।

मित्रों, यह नियम के स्वस्थ व्यक्तियों के लिए ही बनाया गया है। जो असक्त हैं, वृद्ध हैं अथवा रोगी हैं उनके लिए इन नियमों का पालन आवश्यक नहीं बताया गया है। उनके उपर इन सभी नियमों का कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है।।

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे  YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click Here & Watch My YouTube Channel.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

वापी ऑफिस:- शॉप नं.- 101/B, गोविन्दा कोम्प्लेक्स, सिलवासा-वापी मेन रोड़, चार रास्ता, वापी।।

वापी में सोमवार से शुक्रवार मिलने का समय: 10:30 AM 03:30 PM

वापी ऑफिस:- शनिवार एवं रविवार बंद है.

सिलवासा ऑफिस:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

प्रतिदिन सिलवासा में मिलने का समय: 05: PM 08:30 PM

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: balajijyotish11@gmail.com 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here