कुण्डली के दूसरे भाव में राहु का शुभाशुभ फल ।।

0
102
Shani Sadhesati Effects
Shani Sadhesati Effects

कुण्डली के दूसरे भाव में राहु का शुभाशुभ फल ।। Dusare Bhav Me Rahu.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, आज हम बात करेंगे किसी भी जन्म कुंडली के दूसरे भाव में बैठे हुए राहु के शुभ अशुभ फल के विषय में । वैसे तो राहु एक छाया ग्रह माना जाता है । परंतु जन्म कुंडली में यह जिस स्थान या जिस राशि पर बैठता है उसी भावेश या राशिश के अनुसार या उसके स्वभाव के अनुसार शुभाशुभ फल जातक को प्रदान करता है ।।

परंतु प्राकृतिक रूप से राहु अगर कुंडली के दूसरे भाव में बैठा हो तो किस प्रकार का फल देगा इस विषय में आज हम विस्तृत चर्चा करेंगे । दूसरे भाव में बैठा राहु जातक के धन और परिवार के लिए प्रतिकूल होता है । ऐसे जातक की मृत्यु किसी शस्त्र के द्वारा होती है ।।

अगर द्वितियस्थ राहु के प्रभाव के विषय में बात करें तो ऐसे जातक का धार्मिक संस्थाओं की तरफ से मिलनेवाली वस्तुओं पर ही जीवन निर्वाह होता है । परन्तु उसका पारिवारिक जीवन सुखी होता है । उसकी आर्थिक परिस्थिति का आधार कुंडली में गुरु के बैठने के स्थान पर आधारित है कि वह किस स्थान पर बैठा है ।।

वर्ष कुंडली में यदि शनि प्रथम भाव में हो और गुरु अनुकूल हो तो सबकुछ सरलता से चलता रहता है । परंतु कुण्डली में शनि यदि नीच का हो तो उसका विपरीत प्रभाव भी जीवन पर पड़ता है ।।

मित्रों, द्वितियस्थ राहु का शुभ और कुछ अशुभ फल भी होता है । अगर दोष आपके जीवन में हो तो इसका कुछ सहज उपाय आप कर सकते हैं । जैसे चाँदी का एक छोटा सा ठोस गोला पास में रखें । ससुराल से किसी भी प्रकार का कोई विद्युत उपकरण कदापि न स्वीकार करें ।।

इस प्रकार के राहु को ठीक करने के लिये अपनी माता के साथ अच्छा सम्बंध रखें । इससे आपको बहुत लाभ हो सकता है । सोने का एक ठोस गोला पास में रखें अथवा चाँदी की डिबिया में केसर भरकर रखने से भी बहुत लाभ होता है ।।

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे  YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click & Watch My YouTube Channel.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here