अथ श्री नवग्रह कवचम् ।।

0
474
Navgrah Stotram

अथ श्री नवग्रह कवचम् ।। Navgraha Kavcham.

ब्रह्मोवाच:-

शिरो मे पातु मार्ताण्डो कपालं रोहिणीपतिः |
मुखमङ्गारकः पातु कण्ठश्च शशिनन्दनः |
बुद्धिं जीवः सदा पातु हृदयं भृगुनन्दनः |
जठरञ्च शनिः पातु जिह्वां मे दितिनन्दनः |
पादौ केतुः सदा पातु वाराः सर्वाङ्गमेव च |
तिथयोऽष्टौ दिशः पान्तु नक्षत्राणि वपुः सदा |
अंसौ राशिः सदा पातु योगाश्च स्थैर्यमेव च |
गुह्यं लिङ्गं सदा पान्तु सर्वे ग्रहाः शुभप्रदाः |
अणिमादीनि सर्वाणि लभते यः पठेद् ध्रुवम् ||
एतां रक्षां पठेद् यस्तु भक्त्या स प्रयतः सुधीः |
स चिरायुः सुखी पुत्री रणे च विजयी भवेत् ||
अपुत्रो लभते पुत्रं धनार्थी धनमाप्नुयात् |
दारार्थी लभते भार्यां सुरूपां सुमनोहराम् |
रोगी रोगात्प्रमुच्येत बद्धो मुच्येत बन्धनात् |
जले स्थले चान्तरिक्षे कारागारे विशेषतः |
यः करे धारयेन्नित्यं भयं तस्य न विद्यते |
ब्रह्महत्या सुरापानं स्तेयं गुर्वङ्गनागमः |
सर्वपापैः प्रमुच्येत कवचस्य च धारणात् ||
नारी वामभुजे धृत्वा सुखैश्वर्यसमन्विता |
काकवन्ध्या जन्मवन्ध्या मृतवत्सा च या भवेत् |
बह्वपत्या जीववत्सा कवचस्य प्रसादतः ||

।। इति ग्रहयामले उत्तरखण्डे नवग्रह कवचं सम्पूर्णम् ।।Navagraha Vishisht Mantra

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे  YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click Here & Watch My YouTube Channel.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here