श्रीमृत्युञ्जय अष्टोत्तर शतनामावलिः॥

Shri Mrityunjaya Ashtottarshat Namavali
Shri Mrityunjaya Ashtottarshat Namavali

अथ श्री मृत्युञ्जय अष्टोत्तर शतनामावलिः॥ Shri Mrityunjaya Ashtottarshat Namavali.

पुराने से पुराने एवं जड़ से जड़ रोगों की निवृत्ति हेतु श्री मृत्युञ्जय अष्टोत्तरशत नामावलिः का पाठ करें.

ॐ भगवते नमः ॥
ॐ सदाशिवाय नमः ॥
ॐ सकलतत्त्वात्मकाय नमः ॥
ॐ सर्वमन्त्ररूपाय नमः ॥
ॐ सर्वयन्त्राधिष्ठिताय नमः ॥
ॐ तन्त्रस्वरूपाय नमः ॥
ॐ तत्त्वविदूराय नमः ॥
ॐ ब्रह्मरुद्रावतारिणे नमः ॥
ॐ नीलकण्ठाय नमः ॥
ॐ पार्वतीप्रियाय नमः ॥
ॐ सौम्यसूर्याग्निलोचनाय नमः ॥
ॐ भस्मोद्धूलितविग्रहाय नमः ॥
ॐ महामणिमकुटधारणाय नमः ॥
ॐ माणिक्यभूषणाय नमः ॥
ॐ सृष्टिस्थितिप्रलयकालरौद्रावताराय नमः ॥
ॐ दक्षाध्वरध्वंसकाय नमः ॥
ॐ महाकालभेदकाय नमः ॥
ॐ मूलाधारैकनिलयाय नमः ॥
ॐ तत्त्वातीताय नमः ॥
ॐ गंगाधराय नमः ॥
ॐ सर्वदेवाधिदेवाय नमः ॥
ॐ वेदान्तसाराय नमः ॥
ॐ त्रिवर्गसाधनाय नमः ॥
ॐ अनेककोटिब्रह्माण्डनायकाय नमः ॥
ॐ अनन्तादिनागकुलभूषणाय नमः ॥
ॐ प्रणवस्वरूपाय नमः ॥
ॐ चिदाकाशाय नमः ॥
ॐ आकाशादिस्वरूपाय नमः ॥
ॐ ग्रहनक्षत्रमालिने नमः ॥
ॐ सकलाय नमः ॥
ॐ कलंकरहिताय नमः ॥
ॐ सकललोकैककर्त्रे नमः ॥
ॐ सकललोकैकसंहर्त्रे नमः ॥
ॐ सकलनिगमगुह्याय नमः ॥
ॐ सकलवेदान्तपारगाय नमः ॥
ॐ सकललोकैकवरप्रदाय नमः ॥
ॐ सकललोकैकशंकराय नमः ॥
ॐ शशांकशेखराय नमः ॥
ॐ शाश्वतनिजावासाय नमः ॥
ॐ निराभासाय नमः ॥
ॐ निरामयाय नमः ॥
ॐ निर्लोभाय नमः ॥
ॐ निर्मोहाय नमः ॥
ॐ निर्मदाय नमः ॥
ॐ निश्चिन्ताय नमः ॥
ॐ निरहंकाराय नमः ॥
ॐ निराकुलाय नमः ॥
ॐ निष्कलंकाय नमः ॥
ॐ निर्गुणाय नमः ॥
ॐ निष्कामाय नमः ॥
ॐ निरुपप्लवाय नमः ॥
ॐ निरवद्याय नमः ॥
ॐ निरन्तराय नमः ॥
ॐ निष्कारणाय नमः ॥
ॐ निरातंकाय नमः ॥
ॐ निष्प्रपंचाय नमः ॥
ॐ निस्संगाय नमः ॥
ॐ निर्द्वन्द्वाय नमः ॥
ॐ निराधाराय नमः ॥
ॐ निरोगाय नमः ॥
ॐ निष्क्रोधाय नमः ॥
ॐ निर्गमाय नमः ॥
ॐ निर्भयाय नमः ॥
ॐ निर्विकल्पाय नमः ॥
ॐ निर्भेदाय नमः ॥
ॐ निष्क्रियाय नमः ॥
ॐ निस्तुलाय नमः ॥
ॐ निस्संशयाय नमः ॥
ॐ निरञ्जनाय नमः ॥
ॐ निरूपविभवाय नमः ॥
ॐ नित्यशुद्धबुद्धपरिपूर्णाय नमः ॥
ॐ नित्याय नमः ॥
ॐ शुद्धाय नमः ॥
ॐ बुद्धाय नमः ॥
ॐ परिपूर्णाय नमः ॥
ॐ सच्चिदानन्दाय नमः ॥
ॐ अदृश्याय नमः ॥
ॐ परमशान्तस्वरूपाय नमः ॥
ॐ तेजोरूपाय नमः ॥
ॐ तेजोमयाय नमः ॥
ॐ महारौद्राय नमः ॥
ॐ भद्रावतारय नमः ॥
ॐ महाभैरवाय नमः ॥
ॐ कल्पान्तकाय नमः ॥
ॐ कपालमालाधराय नमः ॥
ॐ खट्वांगाय नमः ॥
ॐ खड्गपाशांकुशधराय नमः ॥
ॐ डमरुत्रिशूलचापधराय नमः ॥
ॐ बाणगदाशक्तिबिन्दिपालधराय नमः ॥
ॐ तौमरमुसलमुद्गरधराय नमः ॥
ॐ पत्तिसपरशुपरिघधराय नमः ॥
ॐ भुशुण्डीशतघ्नीचक्राद्ययुधधराय नमः ॥
ॐ भीषणकरसहस्रमुखाय नमः ॥
ॐ विकटाट्टहासविस्फारिताय नमः ॥
ॐ ब्रम्हांडमंडलाय नमः ॥
ॐ नागेन्द्रकुंडलाय नमः ॥
ॐ नागेन्द्रहाराय नमः ॥
ॐ नागेन्द्रवलयाय नमः ॥
ॐ नागेन्द्रचर्मधराय नमः ॥
ॐ त्र्यम्बकाय नमः ॥
ॐ त्रिपुरान्तकाय नमः ॥
ॐ विरूपाक्षाय नमः ॥
ॐ विश्वेश्वराय नमः ॥
ॐ विश्वरूपाय नमः ॥
ॐ विश्वतोमुखाय नमः ॥
ॐ मृत्युञ्जयाय नमः ॥

॥ मृत्युञ्जय अष्टोत्तर शतनामावलिः समाप्तः ॥

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे  YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click Here & Watch My YouTube Channel.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

सिलवासा ऑफिस:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के ठीक सामने, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

प्रतिदिन सिलवासा में मिलने का समय:

10:30 AM to 01:30 PM And 05: PM 08:30 PM

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: [email protected]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here